Chandi Mata Mandir Bagbahara | यहाँ भालू आतें है दर्शन करने

महासमुंद जिले के Chandi mata mandir bagbahara में हर शाम भालू माता चंडी के आरती में आते हैं तथा पुजारी द्वारा माता का प्रसाद ग्रहण करते हैं। यह एक प्रसिद्ध मंदिर है जो माता चंडी को समर्पित है, जो मां दुर्गा का स्वरूप है। कहते हैं यहां माता की मूर्ति हर साल धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है। माता का मंदिर छोटे बड़े पहाड़ों के बीच स्थित है जो ढलानुमा सतह पर है। यदि आप bagbahra chandi mata mandir जानना चाहते हैं, तो मैंने माता के बारे में पूरी जानकारी इस पोस्ट में दी है जिसे आप पढ़ सकते हैं। 

चंडी माता मंदिर के बारे में

छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में स्थित Chandi mata mandir bagbahara विकासखंड के घुंचापाली ग्राम में स्थित है। यह मंदिर जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है तथा विकासखंड बागबाहरा से मात्र 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। चंडी माता का मंदिर छोटे बड़े ऊंचे पहाड़ों के बीच स्थित है मंदिर पहाड़ की ढलान सतह पर स्थित है। जिसके कारण यहां सीढ़ियां नहीं बनाया गया है। मंदिर के अंदर स्थित मां की प्रतिमा बहुत ही प्यारी है। चलिए हम आपको bagbahra chandi mata mandir की पूरी जानकारी देते हैं। 

Chandi Mata Mandir Bagbahara | चंडी माता मंदिर बागबहरा

बागबाहरा चंडी माता मंदिर महासमुंद जिले में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। जो ढलान नुमा पहाड़ के ऊपर स्थित है, यह मंदिर मां चंडी को समर्पित है जो मां दुर्गा का स्वरूप है। मंदिर के गर्भगृह में स्थित मां की मूर्ति बहुत ही प्यारी है, तथा वर्तमान में माता चंडी की मूर्ति की ऊंचाई 9 से 10 फिट है। कहा जाता है कि मंदिर में स्थित माता की मूर्ति हर साल बढ़ती जाती हैं। मंदिर प्रांगण में नंदी की विशाल प्रतिमा बनाई गई है जो माता की तरफ मुंह कर बैठे हुए हैं। यह मंदिर मुंगई माता मंदिर की तरह है, यहाँ भी भालू शाम के समय माता की आरती में आते है।

साल के दोनों नवरात्रि के समय Chandi mata mandir bagbahara में श्रद्धालु भक्तों की भारी संख्या देखी जाती हैं। यहां हर शाम भालू माता की आरती में पुजारी द्वारा प्रसाद ग्रहण करने के लिए आते हैं। लोग दूर-दूर से माता चंडी के दर्शन करने आते हैं मंदिर के अंदर स्थित माता की मूर्ति में माता के खुले नयन एक आकर्षक अविश्वरणीय आभास प्रदान करते हैं। जिसे ऐसा लगता है की माता वहां बैठी भक्तों को देख रही हो। मुख्य मंदिर के अलावा भी यहां अन्य देवी देवताओं के छोटे-बड़े मंदिर स्थित है। जिसे आप यहां आकर देख सकते हैं। अब चलिए जानते हैं स्थानीय लोगों के द्वारा चंडी देवी मंदिर का इतिहास क्या है?

chandi mata mandir bagbahara photos

चंडी देवी मंदिर का इतिहास

महासमुंद में स्थित Chandi mata mandir का इतिहास मंदिर समिति द्वारा तथा पुजारी द्वारा बहुत पुराना बताया जाता है। कहा जाता है कि पहले इस मंदिर में तांत्रिकों तथा अघोरियों का आना जाना लगा रहता था। यहां सिर्फ अघोरियों के द्वारा ही माता चंडी देवी की पूजा आरती की जाती थी। माता की महिमा यह थी की मां की मूर्ति हर साल अपने आप धीरे-धीरे बढ़ रही थी जिसके कारण स्थानीय लोगों को मां की महिमा पता चली तो सन 1950 के बाद बागबाहरा चंडी माता मंदिर को सभी लोगों के लिए खोल दिया गया। इसके बाद दूर-दूर से मां चंडी के दर्शन के लिए भक्त आने लगे। 

देखें विडियो को –

Chandi Mata Mandir Bagbahara Photos

नीचे मैंने bagbahra chandi mata mandir की फोटो दी हुई है जिसे आप देख सकते हैं की माता की मूर्ति हर साल कैसे बढ़ रही हैं।

chandi mata mandir bagbahara photo
chandi mandir bagbahara mahasamund

Chandi Mata Mandir Bhalu

मंदिर के पुजारी ने यह बताया है कि यह भालू आते हैं। यहाँ भालू बहुत पहले से ही आ रहे हैं, जिसमें बड़े नर जो पहले आते थे उसकी मृत्यु हो चुकी है तथा उसके बच्चे वह मादा भालू ही अभी आते हैं। चंडी माता मंदिर में भालू शाम के समय माता की आरती में आते हैं तथा पुजारी द्वारा माता की प्रसाद को ग्रहण करते हैं। कहा जाता है कि बहुत पहले से आ रहे हैं यह भालुओं के द्वारा अभी तक किसी को हांनी नहीं पहुंची है।

chandi mata mandir bhalu bagbahara
bagbahara bhalu chandi mandir photos
Note: लेकिन फिर भी आपसे यह आग्रह है कि भालुओं से दूरी बनाकर रखें। 

चंडी माता मंदिर के पास स्थित अन्य मंदिर

महासमुंद में स्थित बागबाहरा चंडी माता मंदिर एक प्रसिद्ध मंदिर है। जिसमें माता चंडी देवी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा स्थापित है। मंदिर के गर्भगृह में स्थित माता की मूर्ति 9 से 10 फीट की है तथा कहा जाता है की मूर्ति की ऊंचाई बढ़ती ही जा रही है। मंदिर प्रांगण में बहुत से छोटे-बड़े देवी देवताओं की मूर्तियां भी स्थित है जिसके आप दर्शन कर सकते हैं। जो आपको नीचे देखने को मिल जाएंगे। 

बटुक भैरव – चंडी माता मंदिर के पास स्थित बटुक भैरव की सुंदर प्रतिमा स्थापित है जिसके दर्शन आप कर सकते हैं। 

bhairav mandir bagbahara photos

महादेव शिव जी – मंदिर के पास स्थित भगवान शिव की बड़ी प्रतिमा शिवलिंग के रूप में स्थापित है जिसके दर्शन आप कर सकते हैं।

shivji mandir bagbahara photos

मां काली मंदिर – माता चंडी के मंदिर के समीप स्थित मां काली की गुफा मंदिर है जिसके अंदर मां काली की प्रतिमा विराजमान है जिसके दर्शन आप कर सकते हैं।

ma kali mandir bagbahara photos

महावीर हनुमान जी – मंदिर के समीप में स्थित महावीर हनुमान जी की मूर्ति विराजमान है जिसके दर्शन आप कर सकते हैं।

भीमखोज खल्लारी माता मंदिर चंडी माता मंदिर बागबाहरा से मात्र 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है मां खल्लारी देवी मंदिर जिसके दर्शन आप कर सकते हैं। 

khallari mata photo

इन सभी मंदिरों के अलावा भी यहां पर बहुत से अन्य देवी देवताओं के छोटे-बड़े मंदिर स्थित है जिसके दर्शन आप यहां आकर कर सकते हैं। जिससे कि आपकी सारी मनोकामना पूर्ण होगी।

How to reach Chandi Mata Mandir Bagbahara

यदि आप सोच रहे हैं कि महासमुंद में स्थित Chandi mata mandir bagbahara कैसे पहुंचे? तो ना करें बागबाहरा चंडी माता मंदिर से महासमुंद की दूरी 40 किलोमीटर है। जिससे कि आप मंदिर बढ़िया आसानी से पहुंच सकते हैं। तथा मंदिर के समीप स्थित बागबाहरा रेलवे स्टेशन मुख्यमंत्री से मात्र चार किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जिससे कि आप वहां बड़ी ही आसानी से पहुंच सकते हैं। 

जिसके लिए मैंने यात्रा के साधन नीचे सुझाए हैं जिससे कि आप Chandi mata mandir बड़ी आसानी से पहुंच सकते हैं। 

सड़क मार्ग द्वारा – यदि आप आप सड़क मार्ग से चंडी माता मंदिर आना चाहते हैं तो आप बस, कार या फिर अपने बाइक से आसकते हैं। 

ट्रेन द्वारा – आप ट्रेन द्वारा बागबाहरा पहुंचकर बड़ी आसानी से चंडी माता मंदिर जा सकते हैं। 

हवाई जहाज द्वारा – आप हवाई जहाज द्वारा महासमुंद पहुंचकर वहां से टैक्सी द्वारा चंडी माता मंदिर बड़ी आसानी से पहुंच सकते हैं।

आपके प्रश्न

चंडी मंदिर कहां है

चंडी माता मंदिर छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले के बागबाहरा विकासखंड में ग्राम घुचापाली में स्थित है।

बागबाहरा में कौन सा मंदिर है?

बागबाहरा में प्रसिद्ध चंडी माता मंदिर तथा खल्लारी देवी मंदिर स्थित है।

चंडी माता मंदिर की मूर्ति की ऊंचाई कितनी है?

वर्तमान में चंडी माता मंदिर की मूर्ति की ऊंचाई 9 से 10 फिट है।

Leave a Comment