देखिए कैसे Ghunghutta Dam लोगों को लुभा रही है।

अंबिकापुर शहर के पास स्थित Ghunghutta dam एक बहुत ही खूबसूरत बांध है, जो प्रकृति प्रेमियों को अपनी ओर आकर्षित करती है। पर्यटक वर्ष के समय यहां आकर अपने दोस्तों और परिवारों के साथ पिकनिक जैसी गतिविधियां करते हैं। साथ ही अपने परिवार के साथ एक खूबसूरत यादें बनाते हैं। इसके कारण हमने इस पोस्ट में घुनघुट्टा डैम के बारे में बताया है। बांध से जुड़ी जानकारी आपके साथ साझा की है, जिसे आप नीचे पढ़ सकते हैं और अपने दोस्तों परिवार के साथ इस खूबसूरत जगह पर घूमने जा सकते हैं।

Ghunghutta Dam | घुनघुट्टा बांध 

सरगुजा जिले से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित घुनघुट्टा बांध (ghunghutta dam) एक बहुत ही खूबसूरत बांध है। यह बांध प्रकृति प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से काम नहीं, यह बांध अंबिकापुर विकासखंड के ग्राम लिबरा में स्थित है। जो अंबिकापुर से लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह विशाल बांध चारों तरफ से हरी भरी पहाड़ियों से घिरा हुआ एक अद्भुत नजारा प्रदान करने वाला बांध है।

घुनघुट्टा बांध का निर्माण 1978 के आसपास में हुआ था। यह बांध 2400 मीटर लंबा और 31 मीटर ऊंचा है। यह बांध सिंचाई परियोजना के लिए निर्मित कराया गया था। यह बांध अपने आसपास के सभी गांव के लिए एक उपयुक्त सिंचाई हेतु बनाया गया बांध है। 

यह बांध पर्यटकों को भी अपनी और आकर्षित करता है क्योंकि वर्षा के समय यह बांध में भरा लबालब पानी लोगों को अपनी और आकर्षित करता है। साथ ही वर्ष के कारण आसपास के जंगली क्षेत्र हरियाली से गूंज उठती है, जो प्रकृति प्रेमियों को एक शांत वातावरण और सुकून का अनुभव प्रदान करती हैं। 

Ghunghutta Dam History

घुनघुट्टा बांध का इतिहास 1978 के पहले का है, यहां सभी गांव की एक समस्या थी जिसमें कृषक सिंचाई के लिए पानी का मोहताज था। किसान अपनी खेत की फसल की उन्नति के लिए वर्षा पर ही निर्भर रहता है। अगर वर्षा नहीं हुई तो फसल भी अच्छी नहीं होती। जिसके कारण छत्तीसगढ़ सरकार ने घुनघुट्टा बांध निर्माण करने का प्रस्ताव रखा जो की आसपास के सभी गांव को जल संचार, तथा सिंचाई के लिए पर्याप्त जल प्रदान करेगा। बांध के निर्माण के बाद वर्षा के बाद इकट्ठी हुई जल को एकत्र कर समय-समय पर सिंचाई के लिए उपयोग किया जाता है।

इसे भी पढ़े – Top 10 कोंडागांव में घुमने की जगह

Ghunghutta Dam Ambikapur

यह एक बहुत ही खूबसूरत बांध है, जो चारों तरफ से प्रकृति प्रेमियों के लिए सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है। यदि आप इस बांध की खूबसूरती देखने के लिए आते हैं, तो आप देखेंगे कि सुबह का सूर्यास्त आपको नई ऊर्जा से भर देगा और आपको शांत वातावरण प्रस्तुत करेगा। 

इस बांध में आकर आप पिकनिक जैसी गतिविधियां कर सकते हैं। 

पिकनिक: यह बांध एक समतल सतह पर निर्मित है, जिसके कारण यह मैदानी भाग की बहुत सी सतह जंगली हैं। यहां आने के बाद आप अपने परिवार या दोस्त के साथ पिकनिक जैसी गतिविधियां कर सकते हैं। जो आपके परिवार और दोस्तों को एक खूबसूरत यादें देगा। 

बोटिंग: बांध का पानी विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है जिस कारण आप यहां आने के बाद नौका विहार कर सकते हैं। बांध में नौका विहार कराया जाता है, जो आपको एक मनोरंजन गतिविधियां प्रदान करेगा। तथा आपके दोस्त और परिवार वालों के साथ एक खूबसूरत पल प्रदान करेगा।

दृश्य: आप यहां बरसात की मौसम में जाकर बांध की खूबसूरती को निहार सकते हैं। आप देखेंगे की बांध का पानी कल कल बहती नदी की तरह नालो से जा रही है। जिसकी आवाज आपको एक अलग ही प्रकार का एहसास प्रदान करती हैं। इसी दौरान चिड़ियों की चह चहाहट सुनने को मिल जाए तो इस दृश्य में चार चांद लग जाए।

Ghunghutta Dam Photos

Ghunghutta dam

How to Reach Ghunghutta Dam

सरगुजा जिले में स्थित यह घुनघुट्टा बांध अपनी खूबसूरत दृश्य के लिए जानी जाती हैं। यह बांध जिला मुख्यालय से लगभग 20 किलोमीटर तथा अंबिकापुर विकासखंड से लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जहां आप बड़ी आसानी से पहुच सकते हैं। नीचे मैं यहां पहुंचने के लिए कुछ यात्रा के साधन सजाए हैं, जिसे आप देख सकते हैं। 

सड़क मार्ग द्वारा: आप सड़क मार्ग द्वारा बड़ी आसानी से बस, कार, टैक्सी की सहायता से बांध तक पहुंच करबांध की खूबसूरती का आनंद उठा सकते हैं। जो आपके परिवार को खूबसूरत यादें देगा।

ट्रेन मार्ग द्वारा: ट्रेन की सहायता से आप सरगुजा जिला मुख्यालय पहुंचकर वहां से बस या टैक्सी द्वारा या अपने निजी वाहन द्वारा घुनघुट्टा बांध तक बढ़िया आसानी से पहुंच सकते हैं और इस बांध की खूबसूरती को निहार सकते हैं। 

ऊपर दिए गए दोनों विकल्प आपके लिए उपयुक्त है, जिसकी सहायता से आप Ghunghutta dam की खूबसूरती को देखने के लिए यहां पहुंच सकते हैं।

Leave a Comment