Top 10 कोंडागांव में घुमने की जगह | Kondagaon Tourist Places

छत्तीसगढ़ के प्रमुख जिलों में से एक कोंडागांव अपनी खुबसुरत प्राकृतिक समृद्धि संस्कृति तथा ऐतिहासिक धरोहर के लिए पूरे छत्तीसगढ़ में जानी जाती है। छत्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले में आपको प्रकृति के बहुत से खूबसूरत नजारे देखने को मिलते हैं, जिसे देखने के लिए हर साल हजारों पर्यटक देश-विदेश से कोंडागांव आते हैं। इस जिले में आपको आदिवासीयों के बहुत से संस्कृत तथा परंपराएं देखने को मिलेंगी, जो आपको सिर्फ छत्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले में ही देखने को मिलेगा।

इस पोस्ट में हम आपको कोंडागांव पर्यटन स्थल में स्थित उन सभी पर्यटन स्थलों से रूबरू करेंगे जो पूरे छत्तीसगढ़ में प्रसिद्ध है। यहां हम आपको Top 10 kondagaon tourist places, Kondagaon tourist places photos, कोंडागांव कब जाना चाहिए? कोंडागांव कैसे पहुचे? तथा kondagaon waterfall की सारी जानकारी देंगे। जानने के लिए हमारे साथ बने रहिये।

Kondagaon Famous For | कोंडागांव प्रसिद्ध है

कोंडागांव, छत्तीसगढ़ में स्थित छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख तथा बहुत ही खूबसूरत जिला है। कोंडागांव प्रसिद्ध है प्राकृतिक सुंदरता, समृद्धि संस्कृति तथा अपनी ऐतिहासिक महत्व के लिए। यहां आपको कई ऊचें-ऊचें पहाड़, कल कल बहती झरने, नदिया और तालाब देखने को मिलते हैं। यहां आपको कई आदिवासी समुदाय भी देखने को मिल जाएंगे. जिनकी अपनी अलग ही अनूठी संस्कृति तथा कई परंपराएं हैं। जो पर्यटकों के लिए कोंडागांव में घुमने की जगह बनती है।

Kondagaon Tourist Places | कोंडागांव में घुमने की जगह

छत्तीसगढ़ में स्थित कोंडागांव जिला एक ऐसा शहर है, जहां पर्यटकों के लिए हर प्रकार के आकर्षण स्थित है। चाहे वह एक प्रकृति प्रेमी हो, या फिर एक ऐतिहासिक स्थलों में रुचि रखने वाला व्यक्ति हो. यदि आप संस्कृति तथा लोक मान्यताओं से रूबरू होना चाहते हो, तो यह कोंडागांव सभी पर्यटकों के लिए एक उपयुक्त स्थान है।

कोंडागांव में स्थित इन्हीं खूबसूरत पर्यटक स्थलों के बारे में हम जानेंगे जहां प्रतिवर्ष हजारों की संख्या में देश-विदेश से लोग आते हैं। साथ ही बहुत से लोग kondagaon me ghumne ki jagah की तलाश में रहते हैं जिसके कारण हम आपको कोंडागांव के सबसे अच्छे पर्यटन स्थलो से रूबरू कराएंगे।

 1. Lingeshwari Mata Mandir 

lingeshwari mandir photos

कोंडागांव जिले में स्थित लिंगेश्वरी माता मंदिर स्थानीय लोगों के लिए एक आस्था का केंद्र है। यह लिंगेश्वरी माता मंदिर कोंडागांव जिला मुख्यालय से मात्र 41 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आलोर में स्थित यह मंदिर एकमात्र ऐसा मंदिर है जो साल में सिर्फ एक ही बार खुलता है, जो सिर्फ भाद्रपद माह की नवमी तिथि के अवसर पर खुलता है।

लिंगेश्वरी मंदिर से जुड़ी एक प्रमुख मान्यता यह है कि इस मंदिर में माता लिंगेश्वर की कृपा से निसंतान दंपतियों को संतान की प्राप्ति होती हैं। तथा मंदिर में आने वाले सभी श्रद्धालु भक्त माता लिंगेश्वरी को खीरे का भेंट चढ़ते हैं तथा उसे ही प्रसाद के रूप में ग्रहण भी करते हैं। यहां प्रतिवर्ष हजारों की संख्या में श्रद्धालु भक्त दूर-दूर से आते हैं। 

2. Danteshwari Mandir Kondagaon

Maa Danteswari Temple

आदिशक्ति मां दंतेश्वरी मंदिर कोंडागांव जिले के बड़े डोंगर में स्थित है। यह मंदिर छत्तीसगढ़ के सबसे प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक माना जाता है, जो मंदिर मां दंतेश्वरी को समर्पित है। मंदिर का निर्माण लगभग 12वीं शताब्दी पूर्व का बताया जाता है। जिसमें मंदिर के गर्भगृह में मां दंतेश्वरी की सुंदर प्रतिमा विद्यमान है।

मंदिर परिसर में अन्य कई मंदिर स्थित है जिसमें बहुत से देवी देवताओ की मूर्तियां स्थापित है। मां दंतेश्वरी मंदिर कोंडागांव जिले से लगभग 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जहां आप बस टैक्स या निजी वाहन से बड़ी आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां हर साल हजारों भक्त मां दंतेश्वरी के दर्शन करने के लिए आते हैं। 

3. Bandha Talab Park

कोंडागांव जिले में स्थित बंधा तालाब एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है, जिसे बंधवा तालाब के नाम से भी जाना जाता है। यह तालाब कोंडागांव की स्थानीय लोगों के लिए प्रमुख स्थल से काम नहीं जो कोंडागांव जिला मुख्यालय से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। तालाब का पानी स्वच्छ और निर्मल है जिसमें कई प्रकार के जलीय जीव जंतु पाए जाते हैं।

बंधा तालाब पार्क पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है, यहां आकर बहुत से पर्यटक बोटिंग, मछली पकड़ना तथा जलीय गतिविधियों का आनंद लेते हैं। तालाब के पास एक बहुत ही खूबसूरत पार्क स्थित है जहां जाकर पर्यटक प्रकृति का आनंद लेते हैं। प्रतिवर्ष यहां सैकड़ो की संख्या में पर्यटक बंधा तालाब आकर अपने दोस्तों तथा परिवार वालों के साथ एक बेहतरीन पल बिताते हैं।

4. Kopabeda Shiv Mandir 

kopabeda shiv mandir kondagaon

कोपाबेड़ा शिव मंदिर कोंडागांव जिले में स्थित एक लोकप्रिय धार्मिक पर्यटन स्थल है। जो यहां की स्थानीय लोगों के लिए एक आस्था का केंद्र है। कोंडागांव से कोपाबेड़ा शिव मंदिर की दूरी लगभग 5 किलोमीटर है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित हैं, जो घने जंगलों के बीच स्थित है।

मंदिर का निर्माण 1950 के आसपास का बताया जाता है तथा कहा जाता है कि भगवान शिव अपने एक भक्त के सपने में आकर मंदिर निर्माण के लिए गए कहते थे जिसके कारण यह मंदिर निर्माण किया गया। मंदिर के गर्भगृह में भगवान शिव की बहुत ही सुंदर शिवलिंग स्थापित हैं। जो यहां की स्थानीय लोगों के लिए तीर्थ स्थल से काम नहीं जिसके दर्शन करने के लिए महाशिवरात्रि के अवसर पर हजारों की संख्या में श्रद्धालु भक्त आते हैं। 

5. Gobrahin Shri Shiva Temple

Gobrahin shiv mandir kondagaon photo

गोबरहीन शिव मंदिर कोंडागांव जिले में स्थित एक प्रमुख प्राचीन धार्मिक मंदिर हैं जो भगवान शिव को समर्पित हैं। गोबरहीन शिव मंदिर जिला मुख्यालय से लगभग 55 किलोमीटर तथा केशकाल शहर से 10 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है। जहां प्रतिवर्ष दूर-दूर से श्रद्धालु भक्त भगवान शिव के दर्शन करने के लिए कोंडागांव आते हैं।

गोबरहीन शिव मंदिर ईट से बना हुआ है, जिसमें मंदिर के अंदर एक बड़ा शिवलिंग स्थापित है। इस मंदिर को कोंडागांव जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल माना जाता है। मंदिर के पास एक छोटा सा कुंड भी स्थित है जिसमें हमेशा पानी भरा रहता है। इस कुंड के पानी को अत्यधिक पवित्र माना जाता है। जिसके कारण बहुत श्रद्धालु भक्त यहां आकर भगवान शिव के दर्शन करते हैं। गोबरहीन शिव मंदिर खुलने का समय सुबह 6:00 से शाम के 6:00 तक है इस बीच आप मंदिर आकर भगवान शिव के दर्शन कर सकते हैं। 

6. Kosarteda Dam

Kosarteda Dam Kondagaon photo

कोसारटेडा बांध कोंडागांव जिले में स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है, जो यहां निवास करने वाले स्थानीय लोगों के लिए एक बेहतरीन पिकनिक स्पॉट से कम नहीं। कोसारटेडा बांध अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए पूरे छत्तीसगढ़ में जाना जाता है। कोसारटेडा डैम जिला मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जहां दूर-दूर से पर्यटक बांध के दृश्य को देखने के लिए आते हैं।

यह बांध नारंगी नदी पर बना हुआ है, आसपास के घने जंगल, हरियाली से भरपूर मैदान और ऊंचे ऊंचे पहाड़ स्थित है। पर्यटक kosarteda dam आकर बांध के पानी में बोटिंग तथा कैंपिंग इसके अलावा बहुत से जली गतिविधियां करते हैं। यदि आप कोंडागांव में घूमने की जगह की तलाश में है तो यह कोसारटेडा बांध आपके लिए एक बेहतरीन पर्यटक स्थल है। 

7. Keshkal Valley

keshkal valley kondagaon photo

केशकाल घाटी कोंडागांव जिले में स्थित एक बहुत ही खूबसूरत घटी है। यह केशकाल घाटी राष्ट्रीय राजमार्ग 30 पर कोंडागांव जिले से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। keshka ghati अपने घने जंगल, ऊंचे पहाड़ तथा घुमावदार मोड़ों के लिए पूरे छत्तीसगढ़ में प्रसिद्ध है। स्थानीय लोग केशकाल घाटी को तेलिन घाटी के नाम से जानते हैं। 

कोंडागांव में स्थित केशकाल घाटी की सुंदरता देखते ही बनती हैं। यह घाटी पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है। दूर-दूर से यहां आने वाले बहुत से पर्यटक घाटी की सुंदरता का आनंद लेने के साथ ही ट्रैकिंग, कैंपिंग तथा अन्य प्रकार की साहसी गतिविधियां करते हैं। यदि आप Kondagaon tourist places की तलाश में है तो यह स्थान आपके लिए एक बेहतरीन पर्यटक स्थल से कम नहीं।

8. Honhed Waterfall

Honhed Waterfall kondagaon photo

होनहेड जलप्रपात कोंडागांव जिले में स्थित एक बहुत ही खूबसूरत जलप्रपात है, जो होनहेड ग्राम पंचायत से लगभग 1 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह खूबसूरत जलप्रपात मांड नदी पर स्थित है, जिसके कारण होनहेड जलप्रपात की ऊंचाई लगभग 80 फीट ऊंचा है। जिसके प्राकृतिक सुंदरता को देखने के लिए पर्यटक दूर-दूर से आते हैं। होनहेड जलप्रपात यहां के स्थानीय लोगों के लिए एक प्राकृतिक खजाने से कम नहीं, जिसके कारण यहां के स्थानीय लोग जलप्रपात के नीचे स्नान कर जलप्रपात के प्राकृतिक खूबसूरती का आनंद लेते हैं। 

9. Jatayu Shila

Jatayu Shila kondagaon photo

जटायु शिला कोंडागांव जिले में स्थित एक लोकप्रिय प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। जटायु शिला एक बड़े पत्थर की संरचना है, तथा यह शीला एक विशाल पक्षी की आकृति के समान दिखाई देता है। जिसे रामायण के जटायू का रूप माना जाता है। यह जटायु शिला कोंडागांव जिला मुख्यालय से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। रामायण काल में जटायु एक की गिद्ध था जिसने माता सीता को रावण के द्वारा हरण करते देख बचाने की कोशिश की और युद्ध में मारा गया। यहां प्रतिदिन सैकड़ो पर्यटक जटायु शीला को देखने के लिए आते हैं।

10. Tatamari Kondagaon

tatamari kondagaon photo

टाटामारी कोंडागांव जिले में स्थित एक लोकप्रिय प्राकृतिक स्थल है जो प्रकृति की सौंदर्य परिपूर्ण है। टाटामारी पर्यटन स्थल एक खूबसूरत पहाड़ी इलाका है, जो केशकाल शहर से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। tatamari अपनी प्राकृतिक ऊंचे पहाड़ी के लिए पूरे छत्तीसगढ़ में प्रसिद्ध है। टाटामारी की ऊंचाई लगभग 1000 मीटर है जिसके कारण यह एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल बन जाता है। लोग दूर-दूर से टाटामारी आकर यहां की घाटियों पर ट्रैकिंग जैसे साहसी गतिविधियां करते हैं। यदि आप अपने kondagaon me ghumne ki jagah की सूची में ट्रैकिंग की जगह खोज रहे हैं तो कोंडागांव में स्थित टाटामारी पर्यटन स्थल आपके लिए बेहतरीन विकल्प हो सकता है। 

11. khadak Ghat

Kosarteda Dam Kondagaon photo

खड़क घाट कोंडागांव जिले में स्थित एक बेहतरीन प्राकृतिक जलप्रपात है। जो स्थानीय लोगों के लिए एक प्राकृतिक खजाने से कम नहीं खड़क घाट जलप्रपात की ऊंचाई लगभग 40 फिट है यह जलप्रपात मांड नदी पर स्थित है। वर्षा के समय इस जलप्रपात की जलधारा अपने उत्तम सीमा पर होता है जिसे देखने के लिए पर्यटक दूर-दूर से आते हैं। जलप्रपात की प्राकृतिक खूबसूरती पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करती हैं यह एक सुंदर जलप्रपात है जहां पर्यटक आकर ट्रैकिंग, कैंपिंग तथा साहसी गतिविधियां करते हैं। यहां आने के बाद पर्यटक अपने परिवार के साथ एक बेहतरीन पल व्यतीत करते हैं। 

Best time to Visit Kondagaon | कोंडागांव कब जाना चाहिए?

यदि आप कोंडागांव जिले में स्थित पर्यटक स्थलों की सैर करना चाहते हैं तो आपको पता होना चाहिए कि वहां जाने का सबसे अच्छा समय कब है। आपको कोंडागांव अप्रैल से नवंबर के बीच जाना चाहिए इस समय कोंडागांव के पर्यटक स्थलों की सैर करना अच्छा माना जाता है। यदि आप kondagaon me ghumne ki jagah की तलाश में है तो मेरे द्वारा बताए गये यह सभी पर्यटक स्थल आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकते हैं। 

Best Tourist Places near Kondagaon

Kuyemari Waterfall????

15 बस्तर में घुमने की जगह????

How to Reach Kondagaon | कोंडागांव कैसे पहुचे?

कोंडागांव छत्तीसगढ़ का एक बहुत ही खूबसूरत जिला है जहां आपको बहुत से खूबसूरत प्राकृतिक दृश्य, समृद्धि संस्कृति तथा ऐतिहासिक धरोहर देखने को मिल जाएंगे। जिसके कारण मैंने आपके आकर्षण के लिए Kondagaon tourist places list दी हुई है जिसे आप कोंडागांव पहुंचकर देख सकते हैं।

नीचे मैंने कोंडागांव पहुंचने के लिए निम्न यात्रा के विकल्प सुझाए हैं जिसे आप देख सकते हैं।

सड़क मार्ग द्वारा: सड़क मार्ग द्वारा आप छत्तीसगढ़ के किसी भी जिले से बस, या टैक्सी द्वारा कोंडागांव पहुचकर इन खुबसूरत पर्यटन स्थल की सैर कर सकते है। 

रेल मार्ग द्वारा: रेल मार्ग आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है क्योंकि रेल मार्ग सभी बड़े शहरों तक फैला हुआ है जिससे कि आप यहां बड़ी आसानी से पहुंच सकते हैं।

हवाई मार्ग द्वारा: हवाई मार्ग द्वारा आप बड़ी आसानी से कुछ ही घंटो में कोंडागांव पहुंचकर इन दिए गए खूबसूरत पर्यटन स्थल की सैर कर सकते हैं। इसकी सहायता से विदेशी पर्यटक कोंडागांव पहुंचकर यहां की खूबसूरती का आनंद रहते हैं। 

Leave a Comment