Mahamaya Mandir Ratanpur | 51 शक्ति पीठ में से एक

महानदी के तट पर बसा mahamaya mandir ratanpur जहां शक्ति की सांद्रता इतिहास के झरोखों से झांकती है। लगभग 11वीं सदी में कलचुरी राजाओं की भक्ति से तराशा गया यह मंदिर सिर्फ एक धार्मिक स्थल नहीं, बल्कि कला का नायाब नमूना भी है। लाल बलुआ पत्थर से निर्मित भवन पर सूरज की किरणें पड़ती हैं, तो मानो देवी का श्रृंगार हो रहा हो।

यह विकृत इतिहास केवल एक कहानी है, लेकिन यह दिखाता है कि इतिहास को कई अलग-अलग तरीकों से लिखा जा सकता है।

रतनपुर महामाया मंदिर एक रहस्यमय मंदिर है। इस मंदिर का निर्माण कब हुआ, और किसने किया, यह कोई नहीं जानता। कहा जाता है कि यह मंदिर देवी महामाया को समर्पित है, लेकिन कुछ लोग मानते हैं कि यह मंदिर किसी अन्य देवी को समर्पित है।

About Ratanpur Mahamaya Mandir | रतनपुर महामाया मंदिर के बारे में

मंदिर का नामश्री आदिशक्ति मां महामाया देवी मंदिर
स्थानरतनपुर, छत्तीसगढ़, भारत
महत्व51 शक्ति पीठों में से एक
Distanceबिलासपुर से 25 किलोमीटर
निर्माण काल11वीं शताब्दी, राजा रत्नदेव प्रथम द्वारा
इतिहासरतनपुर का इतिहास प्राचीन और गौरवशाली है, राजा रत्नदेव प्रथम ने मंदिर का निर्माण कराया
नवरात्रि मेंयहां भक्तों की भीड़ रात्रि तक लगी रहती है, और माना जाता है कि नवरात्र में यहां की गई पूजा निष्फल नहीं जाती है

Mahamaya Mandir Ratanpur | महामाया मंदिर रतनपुर

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में स्थित रतनपुर महामाया मंदिर, ऐतिहासिक और धार्मिक दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस मंदिर का निर्माण राजा रत्नदेव प्रथम ने 12-13 सदीं में करवाया था। भारत, हमेशा से देवी-देवताओं का देश रहा है, और यहां की लोकप्रियता यह कहती है कि जो भी श्रद्धालुगण माता महामाया की इस मंदिर में अपनी मनोकामनाएँ मांगते हैं, उनकी मन्नतें आवश्यकता के हिसाब से पूरी हो जाती हैं।

ratanpur mahamaya mandir छत्तीसगढ़ का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। यह मंदिर देवी महामाया को समर्पित है, जो हिंदू धर्म में एक शक्तिशाली देवी हैं। मंदिर की स्थापत्य शैली अद्वितीय है। मंदिर का गर्भगृह एक गुंबद के आकार का है। गर्भगृह में देवी की एक विशाल प्रतिमा विराजमान है। मंदिर के बाहरी हिस्से में कई छोटे-छोटे मंदिर हैं।

महानदी के तट पर बसा रतनपुर का प्राचीन नगर, शक्ति और आस्था का अनूठा संगम समेटे हुए है। यहाँ का mahamaya mandir, देश के 52 शक्तिपीठों में से एक माना जाता है, जिसकी महिमा अप्रतिम है। 11वीं शताब्दी में कलचुरी राजाओं द्वारा निर्मित यह मंदिर, देवी दुर्गा, महालक्ष्मी और महासरस्वती के त्रिदेवी स्वरूप को समर्पित है।

लाल बलुआ पत्थर से निर्मित मंदिर की वास्तुकला अपने आप में कलात्मक कृति है। ऊँचे शिखर और नक्काशीदार स्तंभ, मंदिर की भव्यता को दर्शाते हैं। गर्भगृह में तीनों देवियों की अलग-अलग प्रतिमाएं विराजमान हैं, जो भक्तों को आध्यात्मिक शांति प्रदान करती हैं।

मंदिर की मान्यता भी अनोखी है। कहा जाता है कि जो भी इस मंदिर में आता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। विशेष रूप से, कुंवारी लड़कियों की मनोकामनाएं जल्दी पूरी होती हैं।

नवरात्रि के दिनों में, इस मंदिर में लाखों श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। श्रद्धालु देवी से आशीर्वाद लेने के लिए दूर-दूर से आते हैं। मंदिर के आसपास कई अन्य धार्मिक और ऐतिहासिक स्थल भी हैं। इनमें से कुछ स्थलों में रानी दुर्गावती का किला, दंतेश्वरी मंदिर, और कोरिया शक्तिपीठ शामिल हैं।

मान्यता है कि सती की मृत्यु के बाद, भगवान शिव ने उनके मृत शरीर को लेकर तांडव रचते हुए ब्रह्मांड में भटकते रहे और जहां-जहां उनके अंग गिरे, वहां शक्तिपीठ बने। इसीलिए mahamaya mandir में माता का दाहिना स्कंध गिरा था और इसे भगवान शिव ने कौमारी शक्ति पीठ कहा। इसे माता के 52 शक्तिपीठों में शामिल किया गया। यहां प्रात:काल से लेकर रात्रि तक भक्तों की भीड़ बनी रहती है, यहाँ दोनों नवरात्रियों में भव्य मेले लगते हैं, जहाँ देश के विभिन्न हिस्सों से लाखों श्रद्धालु माँ महामाया के दर्शन का सौभाग्य प्राप्त करते हैं।

इसे भी पढ़ें – Kuwari Mata Katro – कुँआरी क्यों हैं कुंवारी माता?

Mahamaya Mandir Ratanpur Images

Mahamaya Mandir Ratanpur Images

Ratanpur Mahamaya Mandir History in Hindi

छत्तीसगढ़ के महामाया मंदिर रतनपुर बिलासपुर जिले में स्थित एक प्राचीन और ऐतिहासिक मंदिर है। यह मंदिर 12-13वीं शताब्दी में कलचुरी राजवंश द्वारा निर्मित किया गया था। मंदिर देवी महामाया को समर्पित है, जो हिंदू धर्म में एक शक्तिशाली देवी हैं जो माँ दुर्गा का ही एक रूप है।

मंदिर के निर्माण का इतिहास एक दिलचस्प कहानी है। कहा जाता है कि राजा रत्नदेव प्रथम ने 1045 ईस्वी में एक रात एक वट वृक्ष के नीचे सोते समय देवी महामाया के दर्शन किए। देवी ने राजा को बताया कि वे रतनपुर में निवास करना चाहती हैं। राजा ने देवी की इच्छा का सम्मान किया और 1050 ईस्वी में उनके लिए एक भव्य मंदिर का निर्माण कराया।

मंदिर तीन देवियों महाकाली, महालक्ष्मी और महासरस्वती को समर्पित था। हालांकि, बाद में महाकाली ने पुराने मंदिर को छोड़ दिया। राजा बहार साईं द्वारा एक नया मंदिर बनाया गया था जो देवी महालक्ष्मी और देवी महासरस्वती को समर्पित था।

रतनपुर महामाया मंदिर का निर्माण ऐसा कहा जाता है की विक्रम संवत् 1552 में हुआ था। मंदिर का जीर्णोद्धार बाद में वास्तुकला विभाग द्वारा कराया गया है। मंदिर का स्थापत्य कला भी बेजोड़ है। गर्भगृह और मंडप एक आकर्षक प्रांगण के साथ किलेबंद हैं, जिसे 18 वीं शताब्दी के अंत में मराठा काल में बनाया गया था।

इसे भी पढ़े – छत्तीसगढ़ के 10 सबसे प्रसिद्ध और प्राचीन मंदिर

महामाया मंदिर की कहानी क्या है?

कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण राजा रत्नदेव प्रथम ने 12-13वीं शताब्दी में करवाया था। राजा रत्नदेव प्रथम को एक रात एक वट वृक्ष के नीचे सोते समय देवी महामाया के दर्शन हुए। देवी ने राजा को बताया कि वे रतनपुर में निवास करना चाहती हैं, लेकिन केवल अगर राजा उन्हें एक भव्य मंदिर बनाते हैं।

राजा ने देवी की इच्छा का सम्मान किया और एक छोटा सा मंदिर बनाया। देवी महामाया ने राजा को बताया कि मंदिर बहुत छोटा है। राजा ने एक और मंदिर बनाया, लेकिन यह भी छोटा था।

आखिरकार, राजा ने एक बहुत बड़ा मंदिर बनाया। देवी महामाया खुश थीं और उन्होंने मंदिर में निवास किया।

मंदिर का निर्माण 12-13वीं शताब्दी में नहीं, बल्कि 19वीं शताब्दी में हुआ था। मंदिर का निर्माण कलचुरी राजवंश द्वारा नहीं, बल्कि मराठा राजवंश द्वारा किया गया था। मंदिर देवी महामाया को समर्पित नहीं है, बल्कि एक अन्य देवी को समर्पित है।

रतनपुर के महामाया मंदिर का क्या महत्व है?

ऊंचे शिखर आकाश को छूते हैं और चारों ओर फैले प्राचीन बाजार और नदी का तट, मंदिर के इतिहास को जीवंत कर देते हैं। गर्भगृह में प्रवेश करते ही शक्ति का त्रिदेवी स्वरूप – महाकाली, महालक्ष्मी और महासरस्वती, भक्तों को अपने दिव्य आलिंगन में समेट लेता है। महाकाली की भयंकर मूर्ति, सृष्टि के संहार की शक्ति का बोध कराती है, वहीं महालक्ष्मी का करुणामय रूप और महासरस्वती की ज्ञान-दायिनी मुद्रा, जीवन के हर पहलू को संतुलित करती है।

How to Reach Ratanpur Mahamaya Mandir

छत्तीसगढ़ की प्रसिद्ध मंदिरों में से एक ratanpur mahamaya mandir है, बिलासपुर से रतनपुर की दूरी करीब 25 किलोमीटर है। नवरात्रि के दिनों में यहां हजारों की संख्या में श्रद्धालु माता के दर्शन करने पहुंचते हैं। सामान्य दिनों में भी लोग यहां आते रहते हैं।

मंदिर तक पहुंचने के लिए कई तरह के साधन उपलब्ध हैं। आप सड़क, रेल या हवाई मार्ग से यहां पहुंच सकते हैं। सड़क मार्ग से आने के लिए बिलासपुर से बस या टैक्सी ले सकते हैं। रेल मार्ग से आने के लिए बिलासपुर रेलवे स्टेशन पर उतरकर बस या टैक्सी ले सकते हैं। हवाई मार्ग से आने के लिए बिलासपुर हवाई अड्डे पर उतरकर बस या टैक्सी ले सकते हैं।

Timing - मंदिर के दर्शन के लिए सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक का समय निर्धारित है। मंदिर में प्रवेश के लिए शुल्क नहीं है।

निष्कर्ष

महामाया मंदिर सिर्फ आस्था का केंद्र नहीं, बल्कि पौराणिक कथाओं का भी साक्षी है। मान्यता है कि सती के दाह संस्कार के दौरान उनका दायां कंधा यहीं गिरा था, जिससे यह शक्तिपीठ बना। यही वजह है कि दोनों नवरात्रों में यहां श्रद्धालुओं का मेला लगता है, जहां आस्था के रंग हर गली में, हर चेहरे पर झलकते हैं।

यदि आप छत्तीसगढ़ की धार्मिक और ऐतिहासिक यात्रा पर निकलें, तो mahamaya mandir ratanpur का दर्शन करना न भूलें। यह मंदिर न केवल आध्यात्मिक ऊर्जा से भर देगा, बल्कि छत्तीसगढ़ की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत की झलक भी दिखाएगा।

तो अगर आप छत्तीसगढ़ की यात्रा पर हैं, तो रतनपुर के महामाया मंदिर में जरूर दर्शन करें। इतिहास की गूंज सुनें, शक्ति का अनुभव करें और आस्था की ऊर्जा को अपने साथ जीवन भर संजोएं।

Leave a Comment