Pendri Talab Mungeli – रोगमुक्ति चमत्कारी पेंड्री तालाब

क्या आपको पता है Pendri talab Mungeli में स्थित एक चमत्कारी तालाब है जहाँ स्नान करने मात्र से रोगी ठीक हो जाता है यह Pendri talab lormi रोड में स्थित है इस तालाब को 200 वर्षो से पहले का बताया जाता है जिसके बारे में लोगो को हाल ही में पता चला है। यदि आपको या फिर आपके परिवार में किसी को चर्मरोग है तो आप मुंगेली जिले में स्थित पेंड्री तालाब आ सकते है। यहाँ स्थित तलब में स्नान करने से रोग ठीक होने की मान्यता है।

इस पोस्ट में हम पेंड्री तालाब के इतिहास और चमत्कारों के बारे में जानेंगे।

परिचय

पेंड्री तालाब मनोहरपुर गांव और बरबसपुर गांव के पास स्थित एक चमत्कारिक तालाब है। और यह पेंड्री तालाब मुंगेली जिले के अंतर्गत आता है तथा मुंगेली से पेंड्री तालाब की दूरी 15 किलोमीटर है।

पेंड्री तालाब लोरमी रोड पर स्थित है तथा लोरमी से पेंड्री तालाब की दूरी 12 किलोमीटर है। यही पेंड्री नामक गांव में यह चमत्कारिक तालाब स्थित है जो आज पूरे छत्तीसगढ़ में प्रचलित हो रही है।

तो चलिए हम आपको चमत्कारी पेंड्री तालाब के बारे जानकारी देते हैं।

Pendri Talab Mungeli ( पेंड्री तालाब मुंगेली )

छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में पेंड्री तालाब नामक एक चमत्कारी तालाब है जिसे लोग Mungeli talab के नाम से जानते है, जो मुंगेली से 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जहां अगर कोई रोगी व्यक्ति स्नान करता है तो उसके सारे रोग समाप्त हो जाते हैं। इस तालाब को लोग “सत्य सागर पेंड्री तालाब” के नाम से जानते हैं।

स्थानीय लोगों के अनुसार यह पेंड्री तालाब 200 सालों से चली आ रही है। जब सभी को इस तालाब के चमत्कार के बारे में पता चला लोग भारी संख्या में इस तालाब में स्नान करने के लिए आने लगे।

सावन से लोग पेंड्री तालाब अधिक संख्या में आ रहे हैं जिसमें हर दिन 500-1000 लोग आते हैं और इसकी संख्या बढ़ती जा रही है। सोमवार के दिन लोगों की भारी संख्या यहाँ देखी जाती है।

पेंड्री तालाब में स्नान करने वाले लोगों के अनुसार उनके स्नान करने के बाद उनके शारीरिक रोगों में उनको कुछ फर्क देखने को मिल रहा है और बहुत लोग स्नान करने के बाद ठीक भी हो रहे हैं।

pendri talab
Subscribe Now

चलिए हम पेंड्री तालाब के इतिहास के बारे में जानते हैं।

Pendri talab history in hindi – पेंड्री तालाब का इतिहास

स्थानीय लोगों के अनुसार पेंड्री तालाब मुंगेली जिला में स्थित चमत्कारी तालाब है तथा पेंड्री तालाब का इतिहास 200 साल पुराना है। जहां नायक नाम का एक मजदूर रहता था जो बैल भैंस से अपनी रोजगारी करता था और वह कुष्ट रोग से ग्रसित था साथ ही उसका भैंस भी बीमार था।

एक दिन की बात है नायक अपनी मजदूरी खत्म करने के बाद वही आराम कर रहा था, उसके पास में एक छोटे से गड्ढे में पानी भरा हुआ था जिसे उसके भैंस ने पिया जिससे उसके भैंस की बीमारी तुरंत ठीक होने लगी।

जिसे देखकर नायक आश्चर्यचकित हो गया और खुद भी उस गड्ढे की मिट्टी को अपने ऊपर लगाने लगा और फिर उस पानी से स्नान किया जिससे उसे कुछ फर्क दिखा और उसकी बीमारी भी ठीक होने लगी।

इसके बाद नायक ने इस बात को गांव के सभी बड़े बुजुर्गों को बताया और नायक ने कहा हमें इसे बड़े तालाब के रूप में परिवर्तित करना चाहिए जिसका समर्थन वहां सभी लोगों ने किया।

फिर सभी लोगों ने वहां तालाब का निर्माण किया उसके बाद नायक वहां से चला गया। फिर उसे समय से आज तक यह परंपरा चली आ रही है कि जो भी रोगी व्यक्ति उस तालाब में स्नान करेगा उसका सभी रोग खत्म हो जाएगा।

पेंड्री तालाब कैसे बना एक चमत्कारी तालाब जाने पूरा इतिहास ????

इसे भी पढ़े – छत्तीसगढ़ के 10 सबसे प्रसिद्ध और प्राचीन मंदिर ????

Pendri Talab Photos

नीचे मैंने कुछ पेंड्री तालाब की फोटो दी हुई है जिसे आप देख सकते है –

pendri talab photos
pendri talab photo

पेंड्री तालाब में कौन कौन सी बीमारियाँ ठीक होती है?

पेंड्री तालाब में चर्म रोग जैसी बीमारियां ठीक होती है जिनमें शामिल है

  • दाद
  • खुजली
  • घमौरी
  • खाज (स्कैबी)
  • सफेद दाग
  • मुंहासे
  • कुष्ट रोग
  • फोड़ा
  • फुंसी
  • रूसी
  • त्वचा का रंग बदलना
  • चिंगराज
  • बावासीर
  • भगंदर
  • नसों का चिपकना

और भी बहुत से शारीरिक रोग हैं जिसका यहां ठीक होने की मान्यता है।

pendri talab mungeli

पेंड्री तालाब में क्या करते है

मुंगेली तालाब में लोग अपने रोग के निवारण के लिए स्नान करते हैं जिसमें सभी तालाब के अंदर उतरकर तालाब के कीचड़ को अपने शरीर पर लगाते हैं उसके बाद पानी के अंदर डुबकी लगाते हैं। 

पेंड्री तालाब में स्नान करने वाले लोगों का मानना है कि यहां स्नान करने से उनके सारे शारीरिक बीमारियां ठीक हो जाती है। स्थानीय लोगों के द्वारा ही चमत्कारी मुंगेली पेंड्री तालाब के बारे में सभी को पता चला।

पेंड्री तालाब कब जाना चाहिए

पेंड्री तालाब हर सोमवार जाने की प्रथा है तथा स्थानीय लोगों के अनुसार पेंड्री तालाब जाने का सही समय सोमवार के दिन है जिसमें रोगी व्यक्ति को तीन सोमवार स्नान करना होता है। इसके अलावा भी लोग अलग-अलग दिन यहां आते हैं। 

पेंड्री तालाब कैसे पहुचे

मुंगेली से पेंड्री तालाब की दूरी 15 किलोमीटर है, यदि आप पेंड्री तालाब कैसे पहुचे कैसे पहुंचे सोच रहे हैं तो नीचे मैंने वहां पहुंचने के लिए कुछ यात्रा के साधन सुझाए हैं जिसकी Help से आप Mungeli talab बड़ी आसानी से पहुंच सकते हैं।

आप इस प्रकार Pendri Talab तक पहुच सकते है –

  • By Bike(बाइक द्वारा) – बाइक द्वारा Pendri talab mungeli तक आप बड़ी आसानी से पहुच सकते है।
  • By Car (कार द्वारा) – कार द्वारा Mungeli Pendri talab तक आप बड़ी आसानी से पहुच सकते है।
  • By road (सड़क मार्ग द्वारा) – सड़क मार्ग द्वारा पेंड्री तालाब मुंगेली तक पहुंचना आसान है।

पेंड्री तालाब कहाँ है

पेंड्री तालाब छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में मनोहरपुर गांव और बरबसपुर गांव के पास स्थित है।

मुंगेली पेंड्री तालाब क्यों प्रसिद्ध है

पेंड्री तालाब के प्रसिद्ध होने का कारण यह है की जो भी रोगी व्यक्ति पेंड्री तालाब में स्नान करता है उसके सारे रोग समाप्त होने लगते है।

निष्कर्ष

यदि आप मुंगेली जिले के निवासी हैं और आपके दोस्त या परिवार में कोई भी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की शारीरिक बीमारी है, तो आप उस व्यक्ति को mungel talab में स्नान कराने एक बार जरूर लाना चाहिए क्योंकि माना जाता है कि यह एक चमत्कारी तालाब है जहां अगर कोई रोगी व्यक्ति स्नान करते हैं तो उसके सारे रोग समाप्त हो जाते हैं।

यदि आप मुंगेली के पेंड्री तालाब गये है तो आप हमे कमेंट में जरुर बताएं।

धन्यवाद!

————————————- ——– READ MORE ——————————————-

Angarmoti Mandir ( प्रसिद्ध अंगार मोती मंदिर धमतरी ) ????

Chandi Mata Mandir Bagbahara | यहाँ भालू आतें है दर्शन करने ????

Khallari Mata Mandir Bhimkhoj | भीम और हिडिंबा का विवाह स्थल ????

Bade tariya Kumhari Durg | बच्चों का फेवरेट पार्क ????

Satrenga Picnic Spot | छत्तीसगढ़ का मिनी गोवा ????

3 thoughts on “Pendri Talab Mungeli – रोगमुक्ति चमत्कारी पेंड्री तालाब”

  1. यह एक भ्रम है।
    यहां कोई शक्ती है भी तो देवी शक्ती नही है बल्कि बुरी शक्तियों से संचालित होने वाली तलब है।
    इसे भगवान नही बल्कि कोई inshan इस काम की अंजाम दे रहा है।
    मै जो कह रहा हू वह नियम के अनुसार गलत है।पर यह सच है।
    शक्तियों से लिखा पढ़ा इंसान कर रहा है।

    पर जैसा भी है बहुत अच्छा है मैं अनंत कालो तक उनके साथ हु, फूल सपोर्ट के साथ

    Reply
  2. इस जगह जाए बगैर यहाँ के बारे मे कहना गलत है जब तक आप स्वम ना जाकर इसका जांच पड़ताल करे और वहाँ के इस अद्भुत कारनामें के बारे मे अच्छा से ना जान् ले ,हर किसी से कहना चाहुंगा कि अगर उन्हें कोई तकलीफ या पीड़ा है तो वहाँ जाकर अपने ऊपर इसका असर देखें और फिर comment करें ,जय सतनाम

    Reply

Leave a Comment