देखें शनिदेव मंदिर गौरकापा | Shani Dev Mandir Gourkapa

छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में स्थित shani dev mandir gourkapa पंडरिया नगर पंचायत से लगभग 15 से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। गौरकापा में स्थित यह शनि देव मंदिर आसपास के स्थानीय लोगों के लिए एक बड़ी आस्था का केंद्र है। जहां प्रतिदिन सैकड़ो की संख्या में श्रद्धालु भक्त भगवान शनिदेव के दर्शन करने के लिए आते हैं। यदि आप भी भगवान शनि देव के प्रकोप से ग्रसित हैं तो पंडरिया में स्थित इस शनिदेव मंदिर में आपको जरूर जाना चाहिए।

इस पोस्ट में मैंने गौरकापा शनि देव मंदिर के बारे में पूरी जानकारी दी है जिसे आप पढ़ सकते हैं। इसके अलावा मैंने गौरकापा शनि देव मंदिर कैसे पहुंचे, गौरकापा शनि देव मंदिर कब जाना चाहिए, गौरकापा शनि देव मंदिर क्यों प्रसिद्ध है, गौरकापा शनि देव मंदिर क्यों जाना चाहिए? आपके इन सारी सवालों के जवाब इस पोस्ट में मैंने दी है। 

Shani Dev Mandir Gourkapa | शनिदेव मंदिर गौरकापा

शनि देव मंदिर गौरकापा, छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में स्थित एक प्रसिद्ध धार्मिक मंदिर हैं जो कवर्धा जिले के नगर पंचायत पंडरिया से लगभग 15 से 20 किलोमीटर की दूरी स्थित है। यह मंदिर हिंदू धर्म में न्याय और कर्म के देवता श्री शनि देव को समर्पित है। 

गौरकापा में स्थित शनि देव मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता श्री शनि देव की मूर्ति है। मंदिर के गर्भगृह में स्थित यह मूर्ति लगभग 5 फीट ऊंची है, जो कमल के पुष्प पर विराजमान है। जिसे सोने चांदी से सजाया गया है। शनि देव मंदिर के अलावा यहां शिव मंदिर भी स्थित है, जहां भगवान शनि देव तथा भगवान शिव के दर्शन के लिए प्रतिदिन श्रद्धालु दूर-दूर से आते हैं।

यहां गौरकापा में दो प्रमुख मंदिर स्थित है, जिसमें श्री शनि देव मंदिर सड़क के बाएं तरफ स्थित है। तथा दाईं तरफ मां चंडी देवी की भव्य विशाल मंदिर स्थित है, जिसके गर्भगृह में माता चंडी विराजमान है। gourkapa में स्थित यह दोनों मंदिर स्थानीय लोगों के लिए एक बड़ी आस्था का केंद्र बना हुआ है। जहां प्रतिदिन सैकड़ो की संख्या में श्रद्धालु भक्त आते हैं।

शनि देव मंदिर परिसर के पीछे एक सरोवर है, जिसे शनि कुंड के नाम से जानते हैं तथा बहुत से लोग इस कमल सरोवर भी कहते हैं। ऐसा माना जाता है कि स्कूल में स्नान करने से भगवान शनि देव का आशीर्वाद प्राप्त होता है, तथा आपके कष्ट दूर होते हैं। यहां के आसपास का वातावरण एकदम स्वच्छ और सुंदर हैं। जंगली इलाका होने के कारण यहां आपको बहुत से हरे भरे पेड़ पौधे देखने को मिलते हैं, जो आपको शांति का अनुभव देगा।

shani dev mandir gourkapa photo

प्रतिवर्ष यहां शनि जयंती के अवसर पर shani dev mandir gourkapa परिसर में भव्य मेले का आयोजन किया जाता है। इस मेले में दूर-दूर से बहुत से श्रद्धालु भक्त भगवान शनिदेव की पूजा करने तथा दर्शन करने के लिए आते हैं।

shiv Mandir Gourkapa

Chandi Mata Mandir Gourkapa | चंडी माता मंदिर गौरकापा

गौरकापा में स्थित चंडी माता मंदिर, गौरकापा सड़क मार्ग के दाएं तरफ स्थित है। यह चंडी माता मंदिर भगवान शनि देव मंदिर के सामने ही स्थित है। गौरकापा के चंडी माता मंदिर की रूपरेखा भव्य तरीके से बनाई गई है, मंदिर को विशाल आकार का बनाया गया है। जिसके गर्भ गृह में माता चंडी देवी की मूर्ति को विराजमान किया गया है। 

chandi mata Mandir Gourkapa

चैत्र तथा नवरात्रि में माता चंडी देवी के मंदिर में भारी संख्या में भीड़ देखने को मिलती है, जिसमें दूर-दूर से श्रद्धालु भक्त माता चंडी देवी की दर्शन तथा पूजा अर्चना करने के लिए आते हैं। 

इसे भी पढ़ें – सिद्धि माता मंदिर बेमेतरा

गौरकापा के अन्य मंदिर

गौरकापा में स्थित शनि देव मंदिर एक प्रसिद्ध धार्मिक मंदिर है। जहां दूर-दूर से श्रद्धालु भक्त भगवान शनिदेव के दर्शन करने के लिए आते हैं। गौरकापा में शनि देव मंदिर के अलावा अन्य बहुत से देवी देवताओं के मंदिर हैं जिसे आप शनिदेव मंदिर आने के बाद देख सकते हैं।

1. चंडी माता मंदिर गौरकापा

2. भगवान शिव मंदिर गौरकापा

3. राधा कृष्ण मंदिर गौरकापा

4. श्री गणेश मंदिर गौरकापा

5. दुर्गा माता मंदिर गौरकापा

जैसे बहुत शिव मंदिर आपके यहां देखने को मिल जाते हैं। जिसे आप गौरकापा शनिदेव मंदिर आने के बाद देख सकते हैं।

शनि देव मंदिर गौरकापा क्यों प्रसिद्ध है?

ऐसा माना जाता है कि शनि देव मंदिर गौरकापा में भगवान शनि देव विराजमान है, जिन्हें हिंदू धर्म में न्याय तथा कर्म के देवता भी कहते हैं। shani dev mandir gourkapa जिले में स्थित एकमात्र ऐसा मंदिर है, जहां आने वाले भक्तों की मनोकामना भगवान शनि देव पूर्ण करते हैं। जिसके दर्शन तथा पूजा करने मात्र से आप पर आई कोई भी विपदा तथा आपकी कोई भी समस्या ठीक हो जाती हैं। जिसकेकरण शनि देव मंदिर गौरकापा प्रसिद्ध है।

शनिदेव मंदिर गौरकापा कब जाना चाहिए?

गौरकापा में स्थित शनि देव मंदिर में शनिवार के दिन जाना सबसे अच्छा माना जाता है। शनिवार के दिन आप भगवान शनि देव को सरसों का तेल या तिल का तेल जरुर चढ़ाएं जिससे आपकी सारी मनोकामना पूर्ण होगी।

शनि देव मंदिर गौरकापा क्यों जाना चाहिए?

भगवान शनि देव को हिंदू धर्म में न्याय के देवता तथा कर्म के देवता रहते हैं। जिसके कारण भगवान शनिदेव व्यक्ति के कर्मों द्वारा उनका न्याय करते हैं तथा जो व्यक्ति कर्म से भागता भगवान शनिदेव उन्हें दंडित करते हैं। जिसके करण हमें भगवान शनि देव से क्षमा प्रार्थना करने के लिए शनि देव मंदिर जरूर जाना चाहिए।

शनि देव मंदिर गौरकापा कहां है?

शनि देव मंदिर गौरकापा कवर्धा जिले के नगर पंचायत पंडरिया से लगभग 15 से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जहां आप भगवान शनि देव के दर्शन करने के लिए अपने पूरे परिवार के साथ जा सकते हैं। 

शनि देव मंदिर गौरकापा कैसे पहुंचे?

गौरकापा के शनि देव मंदिर तक पहुंचना बहुत ही आसान है। shani dev mandir gourkapa pandariya नगर पंचायत के अंतर्गत आता है यह पंडरिया से लगभग 15 से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जहां आप निम्न यात्रा के साधना द्वारा बड़ी आसानी से पहुंच सकते हैं। जिसे मैंने नीचे सुखाया है। 

सड़क मार्ग द्वारा: सड़क मार्ग द्वारा आप बड़ी ही आसानी से बस, कार, बाइक की सहायता से अपने लोकेशन से गौरकापा के शनि देव मंदिर तक बड़ी आसानी से पहुंच सकते हैं। 

रेल मार्ग द्वारा: शनि देव मंदिर तक पहुंचाने के लिए आपको कवर्धा जिले रेलवे स्टेशन पहुंच कर वहां से बस या टैक्सी से गौरकापा शनि देव मंदिर पहुंच सकते हैं।

ऊपर दिए गए दोनों यात्रा के साधन आपके लिए उपयुक्त हैं जिससे किया बड़ी आसानी से गौरकापा में स्थित शनि देव मंदिर तक पहुंच सकते हैं।

Leave a Comment